Saas ki bahu ko seekh

                     सास  की बहू को सीख

                


एक बार की बात है एक घर में एक मां और उसका बेटा रहता था। बेटा अपनी मां से बहुत प्यार करता था और अपनी मां की कही हर बात मानता था। सुबह उठकर वह अपनी मां के पैर छूता कहीं भी जाता तो अपनी मां से पूछ कर जाता, सबसे पहले अपनी मां को खाना खिलाता फिर खुद खाता था, और जितना भी वह कमाता वह सारा पैसा अपनी मां को दे देता था। उसकी मां  उससे बहुत खुश रहती थी।
 उनका बेटा जो से पैसे देता था उससे उसकी मां घर का खर्च चलाती थी और सारा हिसाब रखती थी..।


फिर उसकी मां ने अपनी बेटी की शादी करा दी और घर में बहू आ गई उसने अपनी बहू से कहा कि  तुम मेरी बहू नहीं बेटी जैसी हो और तुम कोई भी ऐसा काम मत करना जिससे घर में परेशानी आए। बहू ने से लाते हुए कहा ठीक है मां जी। बहू रोज सारा घर का काम करती हूं सबको खाना बनाती और उसकी सासू मां भी उसका काम में हाथ बटाती। एक बार बहू अपनी दोस्त से मिलने उसके घर गई दोनों दोस्त बहुत दिनों बाद मिली थी तो उनमें हंसी मजाक और घर की बातें चल रही थी और वह उस का आनंद भी ले रहे थे तभी उसकी दोस्त ने उससे पूछा कि क्या तुम्हारा पति है तुम्हें अपनी पूरी तनख्वाह देता है बहू ने मना करते हुए कहा ऐसा नहीं है मेरे पति अपनी तनख्वाह अपनी मां को देते हैं। उसकी दोस्त ने कहा कि मेरे पति तो सारी तुमको मेरी ही हाथ में देते हैं और मैं उससे पैसे बचा बचा कर अपने लिए सोने की चीजें खरीद ती हूं। यह सुनकर बहू को भी लालच आ गया और उसने भी ठान लिया कि मैं भी अपने पति की तनख्वाह लूंगी।
          अगले दिन घर में खाना नहीं बना था तो सास ने पूछा कि बेटा खाना क्यों नहीं बना तो उसने जवाब में कहा कि खाना बनेगा भी नहीं सास ने आश्चर्य में पूछा.. ऐसा क्यों कह रही हो बेटी?  तो बहू ने कहा खाना जब तक नहीं बनेगा जब तक मेरे पति की तनख्वाह मेरे हाथों में नहीं आती तो सास ने कहा इतनी सी बात पर मुंह फुलाए बैठी हो ठीक है अगली बार से तनख्वाह तुम रख लेना लेकिन ध्यान रखना घर में किसी भी चीज की कमी ना रहे बहुत खुश हो गई। और सांस की बात मान ली।
           जब बेटी की तनख्वाह आई तो उसने अपनी तनख्वाह अपनी बीवी को दी और घर में फिर ऐसे ही चलता रहा जब भी  तनख्वाह आती तो बेटा अपनी तनख्वाह अपनी बीवी को देता। बीवी सोने के कंगन ओं के लालच में घर में सामान लाने की कंजूसी करती थी। और धीरे-धीरे घर में सामान की कमी होने लगी घर में खाना भी कम बनने लगा। बेटे ने  अपनी बीवी  से कहा कि खाना इतना कम क्यों बनाया है लेकिन उसकी बीवी पर इसका कोई जवाब नहीं था। तभी थोड़ी देर बाद दरवाजे पर खटखट होती है। दरवाजे पर बिजली विभाग के कर्मचारी होते हैं और वह बिजली का बिल जमा ना होने की वजह से बिजली काटने आए होते हैं। तो  बेटे की मां  उन्हें बिजली का बिल दे देती है। और बहू  यह देख शर्म से पानी पानी हो जाती है और कहती है मां आपके पास ऐसे कैसे और कहां से आए  तो  सास जवाब देती है कि इतने पैसे बेटा मुझे देता था मैं उन पैसों का इस्तेमाल भी करती थी और उन्हें बचाती ली थी भविष्य के लिए तो बहू कहती है मां अगली बार से तनख्वाह आप ही रखना और मैं आपसे घर चलाना सीख होंगी।

Post a Comment

0 Comments